दोस्ती(Dosti)

जीवन में जिसे सच्चा मित्र मिल गया-समझो सब-कुछ मिल गया.उन सभी दोस्तों के लिए जिनको ऎसा मित्र मिल गया हॆ या जो उसकी तलाश में हॆं

23 Posts

420 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3055 postid : 43

हिंदी-ब्लागिंग पर कार्यशाला का आयोजन

Posted On: 22 Jan, 2011 Others,न्यूज़ बर्थ में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज,दिल्ली के आदर्श नगर में, हिंदी कार्यशाला का आयोजन किया गया.जिसमें प्रिंट मीडिया एवं इलॆक्ट्रानिक मीडिया एवं  हिंदी ब्लागरों ने भाग लिया.इस अवसर पर एक हिंदी ब्लागिंग कार्यशाला का आयोजन भी किया गया.मुझे भी इस कार्यक्रम में भाग लेने का अवसर मिला. पढिये ’नुक्कड सम्पादीय टीम की यह रिपोर्ट:-

हिन्दी का प्रयोग न करने को देश में क्राइम घोषित कर दिया जाना चाहिए

पवन *चंदन* ON SATURDAY, JANUARY 22, 2011

नयी दिल्ली/ हिन्‍दी का प्रयोग न करने को देश में क्राइम घोषित कर दिया जाना चाहिए और आज मैं इस मंच से पूरा एक दशक हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग के नाम करने की घोषणा करता हूं। इस एक दशक में आप देखेंगे कि हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग सबसे शक्तिशाली विधा बन गई है। जिस प्रकार मोबाइल फोन सभी तकनीक से युक्‍त हो गया है, उसी प्रकार हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग सभी प्रकार के संचार का वाहक बन जाएगी। प्रख्‍यात व्‍यंग्‍यकार और चर्चित ब्‍लॉग नुक्‍कड़ के मॉडरेटर अविनाश वाचस्‍पति ने जब यह आवाह्न किया तो पूरा सभागार तालियों की करतल ध्‍वनि से गूंज उठा।

उन्‍होंने कहा कि मीडियाकर्मियों और हिन्‍दी ब्‍लागरों का समन्‍वयन अवश्‍य ही इस क्षेत्र में सकारात्‍मक क्रांति का वाहक बनेगा। जिस प्रकार हिन्‍दी ब्‍लॉगर और मीडियाकर्मी एकसाथ मिले हैं, उसी प्रकार यह परचम सभी क्षेत्रों में लहराना चाहिये। प्रत्‍येक क्षेत्र में से हिन्‍दी ब्‍लॉगर बनें और अपने अपने क्षेत्र की उपलब्धियों को सामने लायें। हिंदी मन की भाषा है और इस भाषा की जो शक्ति है वो हिन्‍दी के राष्‍ट्रभाषा न बनने से भी कम होने वाली नहीं है। वे राजधानी के आदर्श नगर में आयोजित हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग की कार्यशाला और ब्‍लॉगर सम्‍मेलन के मौके पर उपस्थित समुदाय को संबोधित कर रहे थे।

आई बी एन सेवन के अनिल अत्री ने कहा कि हिंदी भाषा सम्पूर्ण राष्ट्र को जोड़ने की क्षमता रखती है..विश्व मंच पर राष्ट्र का गौरव भाषा बन सकती है..हिंदी खुद में एक संस्‍कृति और संस्कार है..दिल से बोली जाने और दिल से सुनी जाने वाली इस भाषा को पढ़ने और लिखने वालों की संख्या देशभर में कम नहीं है।

इस कार्यशाला की उपलब्धि उत्‍तराखंड खटीमा से पधारे डॉ. रूपचन्‍द्र शास्‍त्री ‘मयंक’ और चित्‍तौड़गढ़ से पधारी इंदुपुरी गोस्‍वामी रहीं। दिल्ली में प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक मीडिया से भी भारी संख्या में पत्रकारों ने शिरकत कर वेब पत्रकारिता के गुर भी सीखे और यह अनुभव किया कि आज हिंदी किस मुकाम पर है और इसे शिखर पर पहुंचाया जा सकता है। इस कार्य शाला में शिरकत कर रहे मीडियाकर्मियों ने अपने अपने ब्‍लॉग बनाये और संकल्प किया कि वे भी अब नियमित रूप से ब्लॉग लिखा करेंगे।

उपस्थित लोगों में उल्‍लेखनीय चर्चित ब्‍लॉगर अजय कुमार झा, पवन चंदन, सुरेश यादव, पाखी पत्रिका की उप संपादक प्रतिभा कुशवाहा, संगीता स्‍वरूप, वंदना गुप्‍ता, शिशिर शुक्‍ला, राजीव तनेजा, शोभना वेलफेयर सोसायटी के सुमित तोमर, हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग में पी एच डी कर रहे केवल राम, अनिल अत्री, विनोद पाराशर इत्‍यादि के नाम उल्‍लेखनीय हैं। मीडियाकर्मियों में इंडियान्‍यूज के वी के शर्मा, सहारा टी वी के रजनीकांत तिवारी, आज तक के आनंद कुमार, सतीश शर्मा ,संजय राय , राजेश खत्री , योगेश खत्री , हर्षित , दीपक शरमा , राजेंदर स्वामी ने अपने अपने ब्‍लाग बनाये।

ब्‍लॉग लिखने की तकनीकी जानकारी पद्मावली ब्‍लॉग के पद्म सिंह, ब्‍लॉगप्रहरी के कनिष्‍क कश्‍यप और अविनाश वाचस्‍पति ने सामूहिक रूप से दी। इस कार्यशाला का आयोजन और संचालन अनिल अत्री ने किया। आदर्श नगर में करीब सुबह 11 बजे से शुरू हुई हिन्‍दी ब्‍लॉगिग की यह कार्यशाला शाम 5 बजे तक निरंतर चलती रही. इस कार्यशाला में देश के कई नामी साहित्‍यकार लेखक और दिल्ली के हिंदी पत्रकारों ने भाग लिया.

प्रस्‍तुति : नुक्‍कड़ संपादकीय टीम।



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

17 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Lilian के द्वारा
June 14, 2011

That saves me. Tahkns for being so sensible!

Alka Gupta के द्वारा
January 26, 2011

हिन्दी भाषा के विकास व हिन्दी ब्लॉगिंग की विस्तृत जानकारी दी है पढ़ कर बहुत अच्छा लगा कि जिस मुकाम पर उसे पहुँचना चाहिए अब शायद हिन्दी भाषा को वह मुकाम हासिल हो सके विश्व अंतरजाल पर भी हिन्दी के विकास के लिए प्रचार व प्रसार हेतु सराहनीय योगदान हो रहा है सम्बंधित जानकारी के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    January 26, 2011

    अल्का जी, यदि हम सब हिंदी-भाषी,मिलकर प्रयास करें, तो अवश्य ही उस मुकाम को हासिल कर लेंगें-जिसे पाना चाहते हॆ. आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद!

Rashid के द्वारा
January 24, 2011

हिंदी भाषा के प्रसार के लिए हम से जो भी बन पड़े करना चाहिए ! आप का योगदान सराहनीय है ! राशिद

    January 24, 2011

    शुक्रिया! राशिद भाई इसी तरह के सहयोग की आप जॆसे मित्रों से भी अपेक्षा हॆ.

    Nikki के द्वारा
    June 14, 2011

    Kudos to you! I hadn’t tohguht of that!

allrounder के द्वारा
January 24, 2011

विनोद जी, बड़ी ख़ुशी हुई आपका लेख पढ़कर इसलिए भी की इसमें हिंदी भाषा की उन्नति की बात कही गई है, और हिंदी ब्लॉग्गिंग पर भी बिस्तार से चर्चा हुई, आशा है ऐसी ही कार्यशालाएं बहुतायत मैं आयोजित की जाएँगी और हिंदी और हिंदी ब्लॉग्गिंग विश्व क्षितिज पर अपनी पताका लहराएगी !

    January 24, 2011

    सचिन भाई, हम तो आशा करेंगें कि-आप जॆसे हिंदी-प्रेमी ब्लागर मित्र भी इस तरह की संगोष्ठियों में शामिल होकर.इस शुभ काम में अपना सक्रिय सहयोग दें.

डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक के द्वारा
January 24, 2011

समाचार में दिल्ली के सभी ब्लॉगर्स के नाम देख कर अच्छा लगा

    January 24, 2011

    आदरणीय शास्त्री जी, क्या समाचार में- दिल्ली से बाहर के ब्लागर्स के नाम शामिल नहीं थे? आपकी उक्त टिप्पणी पढकर-मॆं कुछ दुविधा में पड गया हूं.

nishamittal के द्वारा
January 24, 2011

जानकारी प्रदान करने हेतु धन्यवाद पाराशर जी.निसंदेह हिंदी ब्लोगिंग के चलते हिंदी का नेट पर प्रयोग बढ़ना मन को आनंदित करता है.हिंदी को जिस सम्मान की आवश्यकता है संभवतः इसी माध्यम से हिदी उसको शीघ्र प्राप्त कर सकेगी.

    Laticia के द्वारा
    June 14, 2011

    Got it! Thanks a lot again for helpnig me out!

rajkamal के द्वारा
January 23, 2011

आदरणीय विनोद जी … सादर प्रणाम ! आप को अपने इस लेख में कुछेक चित्रों का समावेश भी करना चाहिए था …. लेख थोड़ा सा और बड़ा होता तों कितना अच्छा होता …. पता नहीं यह लेख फीचर्ड हुआ की नही …. पर मेरे ख्याल से इसको फीचर्ड होना चाहिए था धन्यवाद


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran