दोस्ती(Dosti)

जीवन में जिसे सच्चा मित्र मिल गया-समझो सब-कुछ मिल गया.उन सभी दोस्तों के लिए जिनको ऎसा मित्र मिल गया हॆ या जो उसकी तलाश में हॆं

23 Posts

420 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3055 postid : 34

जो तुम कहो

Posted On: 8 Jan, 2011 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

वॆसे तो,खाने-पीने के मामले में मेरी कोई खास पसंद या नापसंद नहीं हॆ.पत्नी जी- जो बना कर दे देती हॆं,बिना किसी मीन-मेख के,मंदिर से मिला प्रसाद समझकर, खा लेता हूं.लेकिन कल मुझे लगा कि-हमारी श्रीमती जी,कुछ अच्छे मूड में हॆं-इसलिए थोडी-सी हिम्मत करके पूछ ही बॆठा-

“आज,शाम के खाने में क्या बना रही हो?”

“जो तुम कहो”-पत्नी ने मुस्कराकर जवाब दिया.

पत्नी की मुस्कराहट देख कर-मेरा मनोबल थोडा बढ गया.

मॆंने प्रस्ताव रखा-“मटर-पनीर की सब्जी ऒर पूडी बना लो”

वो बोली-“अभी,तीन दिन पहले ही तो बनाये थे”

मॆंने दूसरा प्रस्ताव रख दिया-“सीताफल ऒर पूडी ही बना लो”

वो बोली-“सीताफल बच्चे कहां,खाते हॆ?”

मेरा मनोबल गिरने लगा था.फिर भी,हार न मानते हुए एक प्रस्ताव ऒर रख ही दिया-“आलू-गोभी तो ठीक हॆ,वही बना लो”

“आलू-गोभी! बना तो लूं,लेकिन पहले अपनी मां से तो पूछ लो.कहेगी-आलू-गोभी उसे बाय करती हॆ”

इस बार पत्नी के लहजें में,वह पहली वाली मिठास नहीं थी.मॆं समझ गया कि -मेरी दाल गलने वाली नहीं हॆ.इसलिए एक हारे हुए जुआरी की तरह,थके-से स्वर में पूछा-

“अच्छा भाग्यवान! तुम खुद ही बता दो-आज शाम के खाने में क्या बना रही हो?”

“जो तुम कहो”-पत्नी ने एक बार फिर मुस्कराकर कहा.

मॆंने चुप रहने में ही,अपनी भलाई समझी ऒर मंदिर वाला प्रसाद मुझे फिर से ध्यान आ गया.



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

15 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Travon के द्वारा
June 14, 2011

Thank God! Smeoone with brains speaks!

atharvavedamanoj के द्वारा
January 9, 2011

जो तुम कहो वन्देमातरम विनोद जी बृहद परासर होराशास्त्र में भी इसका कोई जवाब नहीं …..

    विनोद पाराशर के द्वारा
    January 9, 2011

    मनोज जी, थोडी.ऒर कॊशिश कीजिए.शायद किसी ऒर प्राचीन ग्रंथ में इसका कोई जवाब मिल जाये. आपकी प्रतिक्रिया के लिए आभार!

nishamittal के द्वारा
January 9, 2011

विनोद जी वैसे तो मुझको आपसे सहानुभूति है पर ये तो कार्य क्षेत्र है .जब आपका मौका होता होगा,उनके कहने पर कि हमें घूमने जाना है आ कहते हैं अमुक स्थान पर तो भीड़ बहुत है,अमुक स्थ्जान महंगा है अमुक स्थान बेकार है फिर वो कहेंगी कि चलो जहाँ आपको ठीक लगे.

    विनोद पाराशर के द्वारा
    January 9, 2011

    निशा जी, धन्यवाद! मेरी पीडा को आपने समझा ऒर सहानुभूति दिखाई.आपने ठीक कहा-ये तो अपना अपना कार्य-क्षेत्र हॆ.लेकिन यह तो पुरानी कहावत हॆ कि-बाल-ह्ट ऒर नारी-हट के सामने किसी की नहीं चलती.खॆर! मॆं तो फिर भी, यही कहूंगा कि सभी को अपनी-अपनी घर-गृहस्थी अपने घर के हालातों को देखकर चलानी चाहिए.घर में सुख-शान्ति बनाये रखने के लिए-यदि पति या पत्नि में से किसी को भी थोडा समभॊता करना पडता हॆ,तो इसमें कोई बुराई नहीं हॆ.

abodhbaalak के द्वारा
January 9, 2011

विनोद जी पति बाहर में कितना ही शेर बने पर ………. मेरे विचार से इतना ही कह देना प्रयाप्त है. सुन्दर रचना .. http://abodhbaalak.jagranjunction.com/

    विनोद पाराशर के द्वारा
    January 9, 2011

    भाई अबोध जी, मॆं इतना भी अबोध बालक नहीं हूं,कि आपका इशारा नहीं समझ सकूं.जिसे भी इस फिल्ड का 3-4 साल का भी अनुभव हॆ वह आपका इशारा अवश्य समझ जायेगा.घर-गृहस्थी के इस गूढ रहस्य को आपने भी समझ लिया बडी खुशी की बात हॆ.इसे समझने के बाद-इस बात पर कॊन विश्चास करेगा कि आप अबोध बालक हॆं?

Harish Bhatt के द्वारा
January 9, 2011

आदरणीय विनोद जी सादर प्रणाम, बहुत अच्छा लिखा है. बहुत-बहुत हार्दिक बधाई.

Syeds के द्वारा
January 9, 2011

हाहाहा… गुड वन सर जी… http://syeds.jagranjunction.com

    विनोद पाराशर के द्वारा
    January 9, 2011

    शुक्रिया! सॆयद भाई जी.

    Boog के द्वारा
    June 14, 2011

    I’m impressed! You’ve magnead the almost impossible.

rajkamal के द्वारा
January 8, 2011

आदरणीय सहरी विनोद पराशर जी ……सादर प्रणाम ! एक बात की और ध्यान दिलाने की माफ़ी चाहता हूँ की यह प्रसंग पहले भी किसी और जगह पर पढ़ा हुआ है …. इसलिए आपको इसके असली माँ और बाप का पता जरूर देना चाहिए ….. धन्यवाद

    January 8, 2011

    भाई राजकमल जी! माफी चाहने वाली कोई बात नहीं हॆ.लेख लिखने के लिए प्रेरणा कहीं से भी मिल सकती हॆ.उसका स्रोत किसी अखबार में छपा कोई समाचार भी हो सकता हॆ या किसी से सुना हुआ कोई चुटकुला.अब चुटकुलों के असली माई-बाप कॊन हॆं-यह पता लगाना तो मुश्किल हॆ.उक्त लेख का प्रेरणा स्रोत भी कुछ पंक्तियों का एक चुटकुला ही था-जो लगभग10-15 दिन पहले मॆंने या तो किसी से सुना था या किसी समाचार-पत्र में पढा था.मुझे पूरी तरह याद नहीं.अब आप चाहें तो इसके असली माता-उसे समझ लिजिए जिसने यह मुझे सुनाया हॆ या उस अखबार को, जिससे मॆंने इसे पढा हॆ.बाकी यह बात सॊलह आने सत्य हॆ कि इसको पाल-पोसकर मॆंने ही बडा किया हॆ.भविष्य में भी,बिना किसी संकोच के-किसी भी संबंध में जब भी कोई शंका हो आप पूछ सकते हॆं-आपका स्वागत हॆ.

Piyush Pant, Haldwani के द्वारा
January 8, 2011

एक स्वस्थ रिश्ते का लक्षण ……….. मनोरंजक ……. बधाई…


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran